कैसे एक डिस्कशन का नेतृत्व (लीड) करें

विचार-विमर्श अर्थात् डिस्कशंस हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है। डिस्कशंस स्वस्थ होने के साथ-साथ कभी-कभी आधारहीन (बेसलेस) भी होती हैं।


हालाँकि, यहाँ समझने वाली बात यह है कि किसी एक विशेष चर्चा (डिस्कशन) का नेतृत्व (लीड) करने के लिए हिम्मत की आवश्यकता होती है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताएँगे कि कॉर्पोरेट स्तर पर चर्चा (डिस्कशंस) को कैसे नेतृत्व (लीड) करें।

 

Regard : Omkar Dahibavkar

1. तैयार रहें :

किसी चर्चा (डिस्कशन) करने से पहले हमें अपने लक्ष्यों पर ध्यान से विचार करना चाहिए। क्या आपको हाल ही में सीखी गई एबिलिटी को इंपिलिमेंट करने के लिए टीम के साथियों की आवश्यकता है?


नए सबजेक्टस के बारे में सोचें। इस पर विचार करने के साथ-साथ दृष्टिकोण को शामिल करने पर काम करें, या मेटिरियल को अपने स्वयं के जीवन से संबंधित करें?


एक क्रिटिकल सिचुएशन के दौरान डिस्कशन किए गए उद्देश्य किसी समय में एक कर्मचारी के व्यक्तिगत जीवन को प्रभावित कर सकते हैं।

2. अपनी टीम के साथ अधिक संवाद (कम्युनिकेट) करें :

एक ओपेन डिस्कशन सभी में सबसे स्वास्थ्यप्रद (हेल्दीएस्ट) होती हैं। यदि आप किसी चर्चा (डिस्कशन) का नेतृत्व करना चाहते हैं, तो आपको यह सुनिश्चित करना होगा, कि आप ग्रुप में सभी को समान अवसर प्रदान कर रहे हैं। ताकि वे कुछ मूल्यवान (वैल्यूएबल) सुझावों (सजेशन) को ला सकें।


टीम के सभी सदस्यों को, इन-क्लास ट्रेनिंग सेशन के दौरान (एक-से-पांच मिनट) के लिए “वार्म अप” करने का समान अवसर अवश्य प्रदान करें।


उदाहरण के लिए, सामाजिक (सोशल), परिस्थितियों और अंतिम परिणाम, रोगसूचक (सिंपटोमैटिक), गतिविधि (एक्टीविटी) और सैद्धांतिक (थ्योरीटीकल) रूप से प्रश्नों प्रकार के वर्गीकरण का उपयोग करने पर विचार करें।

3. एजेंडा सेट करे :

इंट्रेस्ट के लिए क्लियर नियम प्रदान करें। पहले उनसे इसके बारे में बातचीत करें, उनके साथ बने रहें और एक्सचेंज के बीच उन्हें ओथोराइज्ड करें। अपने विचारों को अपनी टीम के सदस्यों के साथ शेयर करें। उन्हें बताएं कि आपका उद्देश्य क्या है? और यह क्यों महत्वपूर्ण है। इसी तरह टीम मेंबरों के सजेशन को भी महत्व दे।


किसी भी संदेह से परे (बियांड), अच्छे बनाने वाले मेटिरियल को सेशन में बात करे। यदि आपके टीम के सदस्य पूछताछ और फीडबैक के साथ नहीं आते हैं, अपनी बातों को नहीं रखता हैं, तो आप अपने मीटिंग में एक योजना अवश्य बनाएं जो स्थिति को समझने के लिए कठिनाइयों का सामना करते हैं।


आप अपने डिस्कशन को बहुत ही शांत वातावरण में डिजाइन करें। जिससे, सभी लोग आपके अपने अपने विचार व्यक्त कर सके। किसी चर्चा (डिस्कशन) के लिए एजेंडा का होना आवश्यक होता है, तभी वह डिस्कशन का रिजल्ट निकल पाता है, और वह डिस्कशन सार्थक हो पाती है। बिना एजेंडा के कोई डिस्कशन करना बेकार होता है, और इसका कोई मतलब नहीं होता है।

 

अगर डिस्कशन को लीड करना है तो आपको अपने डिस्कशन को लेकर क्लियर व्यू रखने होगा।

4. प्रोत्साहित करें, हावी (डोमिनेट) न करें :

खुली जांच का उपयोग करें और रोशनी, चित्र और परिभाषाओं के लिए स्टूडेंट से संपर्क करें।

 

-अपने चेहरे पर कोई रिएक्शन लिए बिना, टीम की रिएक्शनस को सम्मराइजड करें।

 

-अपने प्वाइंट या दूसरों की टिप्पणी पर विचार करने के लिए समय देने के लिए रुकें। चर्चा के दौरान अच्छा वातावरण बनाएं रखें।

 

-टीम के सदस्यों को जाने और उन्हे उनके नामों से बुला कर एंगेज रखें। डिस्कशन को लीड करने के लिए आपके पास अच्छी समन्वय शक्ति भी होनी चाहिए।

 

– आंख के हावभाव को अच्छे से समझे। किसी डिस्कशन पर हावी (डोमिनेट) हो करके आप कभी भी एक अच्छे लीडर नहीं बन सकते हैं।

 

डिस्कशन के समय टीम के सभी लोग आपको ही सुने, उनका ध्यान इधर-उधर न भटकें इसके लिए आप डिस्कशन वाले रूम को काफी आकर्षित बना सकते हैं तथा हर बार डिस्कशन एक ही रूम या जगह में ना करें।

5. जब टीम के सदस्य इंक्वायरी करते हैं, तो उन्हें स्वयं के लिए फीडबैक की खोज करने में सक्षम बनाने का प्रयास करें :

डिस्कशन में जब आप लीड कर रहे होते हैं तो अपने टीम मेंबरों के हर सवालों का जवाब अवश्य दें। उन्हे संतुष्ट करे। सवालों का जवाब देने से कभी परहेज (अवाइड) नहीं करे। जिससे वे आपके साथ आगे बने रहे।

6. सत्र का आकलन करें :

यह नोटिस करें, कि टीम के कितने सदस्यों ने नाॅलेज एक्सचेंज में इंट्रेस्ट ली।

 

– यह नोटिस करें कि किसने इंट्रेस्ट लिया और किसने इंट्रेस्ट नहीं ली।


– डिस्कशन के स्वर (टोन) का भी परीक्षण करें। क्या आप यह कह सकते हैं कि यह उत्साहजनक और सचेत था?


– टीम के सदस्यों से डिस्कशन पर उनकी प्रतिक्रियाएं (रिस्पांस) ले। इसके लिए आप एक प्रतिक्रिया सत्र (रिस्पांस सेशन) भी ले सकते हैं। इससे आपको विभिन्न पहलुओं को बेहतर तरीके से जानने में मदद मिलेगी।